Total Pageviews

घर बैठे पैसा कमाओ बस दिन में कुछ लोगो को मैसेज भेजकर | नीचे दी गयी लिंक पे लिंक करिये

Friday, April 19, 2019

एक ऐसी ग़ज़ल जो दिल को छु जाये भी (Ek Aise Gazal)




एक ऐसी ग़ज़ल जो दिल को छु जाये भी 
और धीमे से पलकें भिगो जाये भी


जो सुने और कहे आज बहते चलो 
हर खुसी दर्द सारे सहते चलो 
जिसका जादू सभी पर चल जाये भी
और सबके दिलो मे उतर जाये भी


सुनी खिड़की, हवाओ मे कुछ घोलकर 
पैदानो के कानो मे कुछ बोलकर 
कमरे की आहात बन जाये भी
जिसके साए मे वक़्त गुजर जाये भी


जो बताये है क्या रूप ये प्यार का
जो सुनाये कभी राज़ श्रंगार का
खुद मे मोहब्बत जो बन जाये भी
बनके होठों का सावन खिल जाये भी


हुम्जुवा हमनवा बेजुवा हो गए
आज रिश्तो के कैसे सितम हो गए 
सारे रिश्तो का अहसास बन जाये भी
और नफरत का मौसम बदल जाये भी


क्या पता राज़ क्या किसके दिल मे छुपा 
किसके दामन मे है किसका आँचल सजा
जीवन का संजोग बन जाये भी 
जिसको चाहे उसे वो मिल जाये भी

चरागों मे रात भर बसर जिंदगी (Charago me raat bhar basar jindgi)





चरागों मे रात भर बसर जिंदगी
मंज़िल-ओ-मुकाम तक सफर जिंदगी


गरीब मे हार कही जीत का मातम
के नसीबा-ए-कमाल का असर जिंदगी

मुख्तलिख बने हमराज़ है की
जुवा-ए-हलाल से जहर जिंदगी

रेत सी बिखर सहारो मे कभी
चमन की तलाश एक नज़र जिंदगी

अंजान राह की मुक़दार की तलाश
करती चले शमो-ओ-शहर जिंदगी

कमेंट सेक्शन के अपने विचार व्यक्त करे ग़ज़ल के बारे में| शेयर करे अपने दोस्तों और परिवार के साथ

जरूर पढ़े



जख्म हर रात जगाने चले आते है (Jakhm har raat jagane chale aate hai)



जख्म  हर  रात  जगाने चले  आते  है 
अश्क़  भी  उनका  साथ  निभाने  चले  आते  है 

करबाटूं  में  बीत  रही  सब  रातें  मेरी 
दूर  तक  हालत  सही  नज़र  नहीं  आते  है 

फ़क़त  पाने  खोने  का  नाम  मोहब्बत  नहीं 
दर्द ,जुदाई  और  इंतज़ार  भी  इसी  में  आते  है 

दिल  में  बाकी  है  यही  आरज़ू  अब  तो 
उन्हें  भी  याद  आये  जिन्हे  याद  किये  जाते  है 

जिंदगी  बीत  रही  हर  एक  पल  में 
गुजरे पल वापस  नहीं  आते  है 

जमाना  छोड़  देता  उनको  बहुत   पीछे 
वक़्त  के  साथ  जो  चल  नहीं  पाते  है

कमेंट सेक्शन के अपने विचार व्यक्त करे ग़ज़ल के बारे में| शेयर करे अपने दोस्तों और परिवार के साथ

जरूर पढ़े




हसरत-ऐ-नादा संभल जा अब न कोई फरियाद कर (Hasrat-e-naada)



हसरत-ऐ-नादा संभल जा अब न कोई फरियाद कर
फक्त राहे इश्क मे और न मुझको बर्बाद कर



दिन न जाने कितने बीते चक जिगर के भूलने मे 
देखकर चेहरा किसीका फिर न इसको शादाब कर



रंग कितने रूप कितने मन है कितने इंसान के
फिक्रमंदी भूलकर ये सबको तू आदाब कर



कैफियत हर राह की सब मंजिलो की ढुडकर 
कोई तो राहेगुजर पर खुद  को तू आजाद कर



जो बसाले दिल मे उसको तू बसा ले जिन्दगी मे
जो निकाले  दिल से उसको और जयादा न याद कर



हर्फ़-हर्फ़ लिखकर कभी तनहइयो मे इसको सुनकर 
जिन्दगी की हर ग़ज़ल पर खुल के तू इरसाद कर

कमेंट सेक्शन के अपने विचार व्यक्त करे ग़ज़ल के बारे में| शेयर करे अपने दोस्तों और परिवार के साथ

जरूर पढ़े

सबके साथ उठो बैठो यहाँ कौन पराया है (Sabke saath utho baitho)





सबके साथ उठो बैठो यहाँ कौन पराया है (Sabke saath utho baitho)




सबके साथ उठो बैठो, यहाँ कौन पराया है
क्युकि हम सबको उस एक ही ने बनाया है

आओ तलाश करे फिर बेसबब उसकी
जो हर सांस तक में समाया है 

करो सियासत अपनी अपनी मौत पे उसकी
और करलो अपने नाम जो उसने कमाया है

उम्र की तपिश में सफेदी ओढे
पहचानता नहीं मैं, यहाँ कौन आया है

जितनी चादर उतने पैर पसारो
किसी ने क्या खूब बताया है

पीठ पीछे चुपके से कभी तुमने हमे
कभी हमने तुम्हे आजमाया है


कमेंट सेक्शन के अपने विचार व्यक्त करे ग़ज़ल के बारे में| शेयर करे अपने दोस्तों और परिवार के साथ

जरूर पढ़े

हसरत-ऐ-नादा संभल जा अब न कोई फरियाद कर (Hasrat-e-naada)


चरागों मे रात भर बसर जिंदगी (Charago me raat bhar basar jindgi)

जब प्यार हुआ तो पार हुआ जीवन के झाल झमेले से (jab pyar hua to paar hua)

दीवारों के कान भले न हो पर दिल जरूर होते है

Wednesday, April 17, 2019

तपस्या में लीन साधु 500 वर्षो से (Tapasya Mai Leen Sadhu)



कुछ रहस्मयी चीज़े ऐसी होती हैं जिन्हे समझना हम इंसानो के लिए अभी तक संभव नहीं हो पाया है | हमारा तंत्र ईटा जटिल है की ये काम कैसे करता है इसको सोच कर ही बहुत हैरानी होती है| किस तरह एक व्यक्ति अपने उलझनों से परेशान रहता है और कही एक व्यक्ति को कोई उलझन ही नहीं होती| कही किसी को खुशी की तलाश रहती है तो कही कोई खुशिया बाटता रहता है|अगर आपने कही किसी वेद या पुराण में ये पढ़ा है की किसी व्यक्ति की आयु हज़ारो वर्ष थी तो मै उसे मिथ्या नहीं मानूँगा| हमारे शरीर में वो शक्तिया है जिससे वो पड़ाव को भी पाया सजा सकता है| 

ऐसे ही एक व्यक्ति के बारे मै हम चर्चा करेंगे जो विज्ञानं के अनुसार तो सैकड़ो साल पहले मर चुके है पर उनकी ममी आज भी विज्ञानं को मिथ्या साबित कर रही है


हिमाचल की खूबसूरत वादियों में ताबो मठ से करीब 40 किलोमीटर की  दुरी पर स्पीति गांव में ऐसा ममी है जो दुनिया भर के लोगों के लिए कौतूहल और रहस्य का विषय बना हुआ है | ऐसा दावा किया जा रहा है की ये ममी ५०० बर्ष पुराणी हो सकती है जो एक बौद्ध तपस्वी सांगला तेनजिंग की है | जो पिचले कई सदियों से तपस्या में लीन है |  

कैसे हुई ममी की खोज

पहले ये ममी नौगांव ही रखी गई थी और एक स्तूप में स्थापित थी।  एक भयंकर भूकंप जो 1974 में आया था, उस भूकंप के कारण यह ममी मलबे के अंदर दब गई थी। यह ममी दोबारा तब मिली जब 1995 में भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल के जवान सड़क निर्माण के लिए काम कर रहे थे। ऐसा बोलै जाए है की उस समय ममी के सर में एक कुदाल लगे से चोट लग गयी थी उस समय ममी और ममी के सिर से खून आने लगा था ।

भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल ने ममी को 2009 तक अपने कैंपस में रखा। बाद में ग्रामीण इसे अपने साथ ले गए और अपनी धरोहर मानते हुए उन्होंने उसे अपने गांव में स्थापित किया। ममी को एक शीशे के केबिन में रखा गया है और उसकी देखभाल ग्रामीणों ने खुद संभाल रखी है। गांव वाले बारी-बारी इस ममी की देखभाल के लिए अपनी ड्यूटी लगाते हैं।


पीछे की कहानी 

ऐसा कहा जाता है की गांव में बिछुओ का बहुत आतंक था जिसकी बझा से गांव वालो का जीना बहुत मुस्कील हो रहा था | सांगला तेनजिंग उसी प्रकोप को समाप्त करने के लिए साधना पर बैठे थे | जब संत ने समादि लगायी तो बिना बारिस के इंद्रधनुष निकला और बिछुओ का प्रकोप समाप्त हो गया 


क्या ये संभव है

क्या ये संभव है कि कोई व्यक्ति 500 सालो से भी ज्यादा जीवित रह सके। विज्ञान की भाषा मे कहे तो संभव नही है पर अगर प्रकृति में हम देखे तो एक जीव ऐसा है जिसकी औसत आयु तो कुछ माह होती है पर जरूरत पड़ने पर ये एक अजीब अवस्था मे चला जाता है जिसमे ये जीव 100 साल से भी जी सकता है । 

जानवर जो ३०० डिग्री में भी जीवित रह सकता है - Tardigradum

इसका मतलब ये होता है कि प्रकर्ति में इसकी संभावना है । और इंसान ये संभावना योग ये द्वारा प्राप्त कर सकता है ।  तो इसकी पूरी संभावना है कि उन्होंने योग द्वारा उस अवस्था को प्राप्त किया था और हो सकता है अभी भी वे उसी अवस्था मे हो।

योग में ऐसी बहुत संभावनाएं है और मुक्ति के लिए इस अवस्था को प्राप्त करना वैसे भी अनिवार्य है।


नोट: ये मेरा निजी मत है कि ऐसा होने की संभावना है। 

कैसे पहुँच सकते है स्पिति गांव

412 किलोमीटर लंबी (256 मील) सड़क पर शिमला मार्ग से किन्नौर के रास्ते स्पीति घाटी पूरे साल उपलब्ध रहती है। विदेशी पर्यटकों को किन्नौर के माध्यम से स्पीति में प्रवेश करने के लिए इनर लाइन परमिट की आवश्यकता होती है। स्पीति की सीमा समदो (काजा से 74 किमी) पर शुरू होती है जो भारत-चीन सीमा के काफी निकट है। गर्मियों में इसे रोहतांग दर्रे और कुंजुम घाटी से होते हुए मनाली पहुंचा जा सकता है। मनाली स्पीति उपमंडल के काजा मुख्यालय से 201 किमी दूर है। हालांकि मनाली से स्पीति तक जाने वाली सड़क शिमला से स्पीति की तुलना में बहुत ही खराब और खराब स्थिति में है



जरूर पढ़े

महाभारत से भी पुराने पेड़ (80000 साल पुराने )

हिंदुस्तान का रॉबिनहुड - टांटिया भील


क्या भगवान वाकई मे चहु ओर है? एक प्रयोग


चौसठ योगिनी मंदिर (Chaushat Yogini Mandir)

क्या आप जानते है ? दुनिया के सबसे पुराने पेड़ कौन से है ?





आज हम दुनिया के सबसे पुराने और जीवित पेड़ो के बारे में चर्चा करेंगे |

10 Bodhi Tree



नाम
Bodhi Tree
जगह
बोध गया ,बिहार ,इंडिया   
उचाई

चौड़ाई

उम्र
लगभग 2500 साल
वर्तमान स्थिति
जीवित है
महत्वपूर्ण सुचना
यह वृक्ष बौद्ध तीर्थ स्थलों में से सबसे महत्वपूर्ण होने के कारण तीर्थयात्रि यहाँ निरंतर आते रहते है

और जाने
https://en.wikipedia.org/wiki/Bodhi_Tree







The Senator



नाम
The Senator
जगह
बिग ट्री पार्क, लोंगवुड, फ्लोरिडा
उचाई
125 फीट (38 मीटर)
चौड़ाई
17.5 फीट (5.3 मीटर)
उम्र
लगभग 3500 साल
वर्तमान स्थिति
जीवित नहीं है
महत्वपूर्ण सुचना
माना जाता है कि बिजली गिरने से आग से पेड़ नष्ट हो गया, लेकिन बाद में पता चला कि आगजनी एक आदमी ने की थी।
और जाने
https://en.wikipedia.org/wiki/The_Senator_(tree)






Gran Abuelo


नाम
Gran Abuelo
जगह
चिली और अर्जेंटीना के एंडीज पहाड़
उचाई
70 मीटर
चौड़ाई
5 मीटर
उम्र
लगभग 3622 साल
वर्तमान स्थिति
जीवित है
महत्वपूर्ण सुचना
इसका उपयोग वर्तमान से कम से कम 13,000 साल पहले शुरू किया जा चूका था। उस समय के लोग लकड़ी का उपयोग औजार और हथियार बनाने के लिए करते थे
और जाने
https://en.wikipedia.org/wiki/Fitzroya





Llangernyw Yew


नाम
Llangernyw Yew
जगह
नार्थ वेल्स
उचाई

चौड़ाई

उम्र
लगभग 4000 साल
वर्तमान स्थिति
जीवित है
महत्वपूर्ण सुचना
यह परंपरा है कि हर साल हैलोवीन में एक तेज आवाज में लोगो के नाम सामने आते हैं जो अगले वर्ष मर जाएंगे। लोकगीत एक अविश्वासी स्थानीय व्यक्ति सियोन एप रौबर्ट के बारे में बताता है, जिसने एक हैलोवीन रात को आत्मा के अस्तित्व को चुनौती दी थी कि वह अपना खुद का नाम सुने, उसके बाद वर्ष के भीतर उसकी मृत्यु हो गई।
और जाने
https://en.wikipedia.org/wiki/Llangernyw_Yew


















Sarv-e Abarkuh



नाम
Sarv-e Abarkuh
जगह
ईरान
उचाई
25 मीटर
चौड़ाई
11.5 मीटर
उम्र
लगभग 4000-5000 साल
वर्तमान स्थिति
जीवित है
महत्वपूर्ण सुचना
इसके स्थान की अनुकूल प्राकृतिक परिस्थितियों को पेड़ की दीर्घायु के मुख्य कारण के रूप में श्रेय दिया गया है।
और जाने
https://en.wikipedia.org/wiki/Sarv-e_Abarkuh





































Methuselah


नाम
Methuselah
जगह
कैलिफ़ोर्निया
उचाई

चौड़ाई

उम्र
लगभग 4,850 साल
वर्तमान स्थिति
जीवित  nahi है
महत्वपूर्ण सुचना

और जाने
https://en.wikipedia.org/wiki/Methuselah_(tree)






























Pinus longaeva


नाम
Pinus longaeva
जगह
उटाह
उचाई
 5 to 15 m
चौड़ाई
2.5 to 3.6 m 
उम्र
लगभग 5068 साल
वर्तमान स्थिति
जीवित  है
महत्वपूर्ण सुचना
जलवायु और उनकी लकड़ी का स्थायित्व मरने के बाद लंबे समय तक उन्हें संरक्षित कर सकता है, मृत पेड़ 7,000 साल पुराने हैं
इसका सटीक स्थान गुप्त रखा गया है।
और जाने
https://en.wikipedia.org/wiki/Pinus_longaeva








































Pinus longaeva


नाम
Old Tjikko
जगह
स्वीडन
उचाई

चौड़ाई

उम्र
लगभग 9550 साल
वर्तमान स्थिति
जीवित  है
महत्वपूर्ण सुचना

और जाने
https://en.wikipedia.org/wiki/Old_Tjikko








































2 - Jurupa Oak



नाम
Jurupa Oak
जगह
कैलिफ़ोर्निया
उचाई

चौड़ाई

उम्र
लगभग 13000 साल
वर्तमान स्थिति
जीवित  है
महत्वपूर्ण सुचना

और जाने
https://en.wikipedia.org/wiki/Jurupa_Oak































1 - Pando



नाम
Pando
जगह
उटाह
उचाई

चौड़ाई

उम्र
लगभग 80000 साल
वर्तमान स्थिति
जीवित  है
महत्वपूर्ण सुचना
वर्तमान में मरने की कगार पर है । हालांकि सटीक कारणों का पता अभी नहीं चला है, लेकिन यह सूखे, चराई, और आग के कारण हो सकता है
एक तना या तना क्लोनल कॉलोनी में 43 हेक्टेयर (106 एकड़) शामिल हैं, लगभग 6,000 मीट्रिक टन (6,600 लघु टन) का वजन है,  । इनके तनों की औसत आयु 130 वर्ष है, जैसा कि पेड़ के छल्ले द्वारा इंगित किया गया है। जड़ें 80,000 साल पुरानी हैं।
और जाने
https://en.wikipedia.org/wiki/Pando_(tree)














जरूर पढ़े

तपस्या में लीन साध ५०० वर्षो से (Tapasya Mai Leen Sadhu)

चर्चित पोस्ट