Breaking News

चरागों मे रात भर बसर जिंदगी (Charago me raat bhar basar jindgi)





चरागों मे रात भर बसर जिंदगी
मंज़िल-ओ-मुकाम तक सफर जिंदगी



गरीब मे हार कही जीत का मातम
के नसीबा-ए-कमाल का असर जिंदगी


मुख्तलिख बने हमराज़ है की
जुवा-ए-हलाल से जहर जिंदगी

रेत सी बिखर सहारो मे कभी
चमन की तलाश एक नज़र जिंदगी

अंजान राह की मुक़दार की तलाश
करती चले शमो-ओ-शहर जिंदगी

कमेंट सेक्शन के अपने विचार व्यक्त करे ग़ज़ल के बारे में| शेयर करे अपने दोस्तों और परिवार के साथ

जरूर पढ़े



No comments